अयोध्या का फैसला, हारकर भी खुश है निर्मोही अखाड़ा, महंत धर्मदास का बड़ा बयान

Last Updated: शनिवार, 9 नवंबर 2019 (12:34 IST)
लखनऊ। सुप्रीम कोर्ट ने भले ही अयोध्या मामले में अपने फैसले में पर निर्मोही अखाड़े के दावे को कर दिया हो लेकिन इसके बाद भी अखाड़ा इस फैसले पर खुश है।
निर्मोही अखाड़े ने कहा है कि अयोध्या में विवादित जमीन पर मालिकाना हक का अपना दावा खारिज होने का उसे कोई अफसोस नहीं है।

निर्मोही अखाड़े के वरिष्ठ पंच ने बातचीत में कहा कि विवादित स्थल पर अखाड़े का दावा खारिज होने का कोई अफसोस नहीं है, क्योंकि वह भी रामलला का ही पक्ष ले रहा था। उन्होंने कहा कि न्यायालय ने रामलला के पक्ष को मजबूत माना है। इससे निर्मोही अखाड़े का मकसद पूरा हुआ है।
मालूम हो कि ने शनिवार को राजनीतिक दृष्टि से संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में यह कहते हुए निर्मोही अखाड़े का दावा खारिज किया कि निर्मोही अखाड़ा रामलला की मूर्ति का उपासक या अनुयायी नहीं है।

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली 5 सदस्यीय संविधान पीठ ने अपने फैसले में कहा कि निर्मोही अखाड़े का दावा कानूनी समयसीमा के तहत प्रतिबंधित है।

विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®
 

और भी पढ़ें :