न्यूजीलैंड में पाइए सस्ती शिक्षा

ND
विदेश जाकर पढ़ाई करने वाले युवाओं के सामने पढ़ाई के बाद जो बात सबसे जरूरी है वह है शिक्षा खर्च। भारत के पढ़ाई खर्च और विदेश के पढ़ाई खर्च में जमीन-आसमान का अंतर है। यदि किसी विश्वविद्यालय में पढ़ाई सस्ती भी हो तो वहाँ रहने और खाने का खर्च भारत की तुलना में कहीं ज्यादा होता है।

इस पर यदि छात्रों को अवकाश के समय काम की अनुमति न मिले तो विदेश में रहकर पढ़ाई और ज्यादा महँगी लगने लगती है। पिछले कुछ सालों से अच्छी शिक्षा और किफायती रहन-सहन के साथ-साथ खर्च की पूर्ति के लिए काम की सुविधा देने वाले देशों की सूची में न्यूजीलैंड का नाम भी जुड़ गया है। और वहाँ साल-दर-साल अंतरराष्ट्रीय छात्रों की संख्या भी बढ़ती जा रही है।

उपलब्ध है अंत. पाठ्यक्रम
न्यूजीलैंड में छात्रों के लिए सारे प्रचलित कोर्स जिनमें इंजीनियरिंग से लेकर मैनेजमेंट और सॉफ्टवेयर शामिल है, उपलब्ध हैं। इतना ही नहीं न्यूजीलैंड में पढ़ाए जा रहे कोर्स अंतरराष्ट्रीय स्तर के हैं। न्यूजीलैंड की विक्टोरिया यूनिवर्सिटी सौ साल पुरानी है, जबकि ओटागो और ऑकलैंड यूनिवर्सिटी को दुनियाभर में प्रतिष्ठित शिक्षा केंद्र माना जाता है।
  विदेश जाकर पढ़ाई करने वाले युवाओं के सामने पढ़ाई के बाद जो बात सबसे जरूरी है वह है शिक्षा खर्च। भारत के पढ़ाई खर्च और विदेश के पढ़ाई खर्च में जमीन-आसमान का अंतर है।      


कम फीस
वहाँ छात्रों को मिलने वाली स्कॉलरशिप की संख्या कम है, लेकिन वहाँ अन्य देशों की तुलना में फीस भी कम ली जाती है। वहाँ का औसत वार्षिक व्यय चार लाख रुपए है जो काम करते हुए वसूला जा सकता है। इसलिए विदेश जाकर पढ़ाई करने वाले छात्रों के लिए न्यूजीलैंड एक सस्ता और अच्छा विकल्प बनता जा रहा है।

पढ़ाई के साथ काम
न्यूजीलैंड में गत दिनों अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए कुछ नए नियम बनाए गए हैं, जिसके अनुसार वहाँ पढ़ाई पूरी कर निकलने वाले छात्रों को छः माह का ओपन वर्क परमिट दिया जाने लगा है। इस दौरान वे वहाँ न केवल रोजगार तलाश सकते हैं, बल्कि स्किल्ड माइग्रेण्ट्स के तहत आवास की पात्रता भी प्राप्त कर लेते हैं।

ND|
इस परमिट को दो साल तक बढ़ाया भी जा सकता है। न्यूजीलैंड सरकार के इस कदम का यह असर हुआ है कि वहाँ की यूनिवर्सिटियों में सारी दुनिया के आवेदनों का ढेर लग गया है। वहाँ की इमाइग्रेशन वेबसाइट पर कभी-कभी इतना ट्रैफिक बढ़ जाता है कि वह लोड से क्रेश तक हो जाती है।

विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®
 

और भी पढ़ें :