0

पद्मश्री सम्‍मान: सम्‍मान का असम्‍मान, मना करने का नैतिक साहस और पुरस्‍कारों का राजनीतिकरण

सोमवार,जनवरी 27, 2020
0
1
जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल 23 से 27 जनवरी तक जयपुर के डिग्गी पैलेस होटल में आयोजित हो रहा है।
1
2
कहानी में इस कदर की सिरहन सिर्फ सआदत हसन मंटो ही पैदा कर सकते थे। दरअसल, अपने आसपास की स्‍थितियों की वजह से मंटो लेखक बने थे।
2
3
5 जनवरी 2020 को वामा साहित्य मंच ने अपने स्थापना के 3 वर्ष पूर्ण किए और चौथा स्थापना दिवस मनाया। इस अवसर पर दिनांक 11 जनवरी 2020 को आयोजित समारोह में नवीन अध्यक्ष, सचिव और कार्यकारिणी का शपथ ग्रहण कार्यक्रम संपन्न हुआ।
3
4
एक तरफ जहां नागरिकता संसोधन कानून को लेकर कुछ लोग इसके खिलाफ हैं तो वहीं कई लोग इसका खुलकर समर्थन भी कर रहे हैं। साहित्‍य जगत से कई लेखक और कवियों ने कानून और मोदी सरकार का समर्थन किया है।
4
4
5
बुधवार 8 जनवरी 2020 को दोपहर 3.30 मिनट से विश्व पुस्तक मेला, प्रगति मैदान के हॉल नंबर 8 में प्रथम तल पर स्थित सेमिनार हॉल में कवि सम्मेलन व सम्मान समारोह का आयोजन किया जा रहा है,
5
6
भारतीय आधुनिक चित्रकला में ख्‍यात नाम कलाकार अकबर पदमसी का सोमवार को निधन हो गया। वे 91 वर्ष के थे। फ्रांसिसी कलाकार सूजा, एमएफ हुसैन, सैयद हैदर रज़ा के साथ ही आधुनिक कला में पदमसी का बड़ा नाम था। वे प्रोग्रेसिव आर्ट ग्रुप से भी जुड़े रहे।
6
7
हर साल की तरह इस साल भी दिल्‍ली में इंटरनेशनल बुक फेयर की शुरुआत हुई है। रविवार को बुक फेयर में करीब 50 हजार पुस्‍तक प्रेमियों के पहुंचने की उम्‍मीद है। राजधानी के प्रगती मैदान पर 4 जनवरी से शुरू होने वाला यह फेयर 12 जनवरी तक चलेगा।
7
8
धूप निकल आई है। उतनी ही जितनी कि कोई स्‍त्री बाहर देखने के लिए अपने कमरे की खिड़की खोलती है, हल्‍की-सी। एक महीन-सी लकीर की तरह खिंच आई है फर्श पर। धुएं में गुंथी हुई। जैसे कोई रॉकेट आसमान में लकीर खींचकर गुजर जाता है, ठीक वैसे ही। प्रकृति क्रूर है ...
8
8
9
अंग्रेजी में एक कहावत है ‘A picture is worth a thousand words’ यानी एक तस्‍वीर एक हजार शब्‍दों के बराबर या उससे ज्‍यादा का अर्थ रखती है। लेकिन इस बदलते दौर में इस कहावत को उल्‍टा कर कर यूं कहा जा सकता है कि कोई एक शब्द, कोई एक वाक्य, एक पंक्‍ति, ...
9
10
अभी-अभी 2019 का दिसंबर खत्‍म हुआ है, हम साल 2020 में हैं। सितंबर 1967 में लुई आर्म्‍सट्रांग ने ‘व्‍हॉट अ वंडरफुल वर्ल्‍ड’ गाना गाया था। करीब 50 साल पहले रचे इस गाने को सुनकर एक 21 साल का लड़का लिखता है- 'मेरे ग्रैंडफादर की मौत हो गई, कल शाम उनके ...
10
11
लेखिका ज्योति जैन के लघुकथा संग्रह निन्यानवे के फेर में के विमोचन के अवसर पर मुख्य अतिथि का दायित्व निभाते हुए पंकज सुबीर ने कहा कि लेखिका ज्योति जैन ने साहित्य की लगभग हर विधा में स्वयं को सुव्यक्त किया है...
11
12
साल 2019 में राजनीतिक उठापटक का असर इस साल आई किताबों पर भी रहा। कविता, उपन्‍यास और कहानी विधा पर तो हर साल किताबें आती ही हैं, लेकिन इस बार कुछ किताबें बोलने की आजादी और धर्म की परिभाषा को लेकर भी आईं।
12
13
रिमिक्‍स के दौर में संगीत का चलन थोड़ा बदला तो है, लेकिन आज भी लोक गायिकी का कमाल और उसका जादू कम नहीं हुआ है। विवाह, विरह, विदाई और छठ जैसे मौकों पर हम इनकी तरफ लौटते ही हैं।
13
14
भारत में हिन्‍दी साहित्‍य में कई बड़े नाम हुए हैं, और नए लेखक और कवि भी लगातार अपना मुकाम बना रहे हैं, लेकिन सबसे खास बात यह है कि विदेशी धरती पर भी हिन्‍दी लेखकों और साहित्‍य ने अपना परचम पहराया है। आइए जानते हैं ऐसे लेखक और कवियों को जिन्‍होंने ...
14
15
प्रति वर्ष की तरह इंदौर लिटरेचर फेस्टिवल 21, 22 और 23 दिसंबर 2019 को आयोजित किया गया। इस आयोजन का यह पांचवां साल था और खास बात यह है कि प्रति वर्ष इसमें पहले से अधिक निखार आ रहा है। अनुशासन, समयबद्धता, विचारों की अभिव्यक्ति, प्रासंगिक विषय और कुशल ...
15
16
लेखक और पाठक के बीच रिश्ता लगातार घटता जा रहा है। यह बेस्टसेलर का जमाना है, मतलब जो जितना प्रचार करेगा उसी की किताब बिकेगी और पढ़ी जाएगी। इस बीच जो अच्‍छी किताबें लिखीं जा रही हैं, लेकिन वे बेस्‍टसेलर में शामिल नहीं है तो ऐसी किताबों का भविष्‍य क्‍या ...
16
17
खुद को आधुनिक कहना पसंद करती हैं और यहां तक कि अपने ब्‍वॉयफ्रेंड के बारे में भी खुलकर बात करती हैं अपने मन की बात की। वे एक ट्रांसजेंडर हैं और नाम है लक्ष्‍मीनारायण त्रिपाठी।
17
18
हिन्दी कहानी अपने समय का दस्तावेज होती है। आज की कहानी में भी वही स्थिति है। हर दौर की कहानी में अपना वक्‍त होता है। कहानी अपने समय के तनाव और उसके विघटन को उजागर करती है। अगर हम प्रेमचंद की कहानी पढ़ रहे हैं तो इसका मतलब है कि हम प्रेमचंद के समय को ...
18
19
इंदौर लिटरेचर फेस्टिवल के अंतिम दिन खूबसूरत माहौल रहा। अंतिम दिन के प्रथम सत्र में जाने-माने विचारक तारक फतेह और लक्ष्मीनारायण त्रिपाठी अपने विचारों से छा गए।
19
विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®