कैब से पड़ने वाले असर को लेकर चिंतित है अमेरिका

पुनः संशोधित शनिवार, 14 दिसंबर 2019 (10:01 IST)
वॉशिंगटन। अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर नजर रखने वाले अमेरिका के एक राजनयिक ने कहा कि भारत में नागरिकता (संशोधन) विधेयक (कैब) से पड़ने वाले असर को लेकर अमेरिका है।
अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता के लिए अमेरिका के विशेष राजदूत सैम ब्राउनबैक ने ट्वीट किया कि भारत का संविधान उसकी महान ताकतों में से एक है। एक साथी लोकतंत्र के तौर पर हम भारत के संविधान का सम्मान करते हैं लेकिन से पड़ने वाले असर को लेकर हम चिंतित है।
ALSO READ:
: पाकिस्तान से आए शरणार्थियों की नागरिकता की राह आसान,पढ़े ग्राउंड रिपोर्ट
उन्होंने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि सरकार धार्मिक स्वतंत्रता सहित संविधान की अपनी प्रतिबद्धताओं का पालन करेगी। भारत और अमेरिका के बीच अगले सप्ताह होने वाली '2+2' वार्ता से पहले उनका यह बयान आया है।
विदेश मंत्री और रक्षामंत्री अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ और अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क एस्पर के साथ 18 दिसंबर को दूसरे दौर की '2+2' वार्ता करने के लिए अगले सप्ताह यहां आएंगे।
इस बीच भारतीय अमेरिकी मुस्लिम काउंसिल द्वारा आयोजित एक संसदीय बैठक में 'एमगेज एक्शन' और 'हिन्दूज फॉर ह्यूमन राइट्स', 'ग्रेगरी स्टैनटन ऑफ जेनोसाइड वॉच' ने गुरुवार को कश्मीर और असम में मानवाधिकारों की स्थिति को लेकर चिंता जाहिर की।

विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®
 

और भी पढ़ें :