0

Vastu Tips : सुगंध से होता है मन पर प्रभाव, यह जानकारी आपको चौंका सकती है

मंगलवार,जनवरी 21, 2020
vastu tips
0
1
जन्म की अंग्रेजी तारीख, जन्म का अंग्रेजी महीना और अंग्रेजी सन् तीनों की विविध संख्याओं को जोड़कर संयुक्त अंक या भाग्यांक बनाया जाता है।
1
2
पौराणिक मान्यता के अनुसार बुधवार व्रत की शुरुआत विशाखा नक्षत्रयुक्त बुधवार से करना चाहिए। इस व्रत को विधिपूर्वक करने से मनुष्य की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं तथा जीवन में सुख-शांति मिलती है और घर धन-धान्य से भरा रहता हैं।
2
3
प्रत्येक मनुष्य का समाज में प्रचलित नाम अंग्रेजी वर्णानुसार लेते हैं। इस नवीन विधि के अनुसार प्रत्येक वर्ण को एक निश्चित अंक दिया गया है। इस प्रकार नाम से संबंधित नामांक हम निकालते हैं।
3
4
वर्ष 2020 में मौनी अमावस्या 24 जनवरी, शुक्रवार को मनाई जा रही है। धार्मिक शास्त्रों के अनुसार माघ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को मौनी अमावस्या तथा माघी अमावस्या कहा जाता है।
4
4
5
बुधवार व्रत करने से बुध ग्रह की शांति होती है तथा विद्या, धन और व्यापार में उन्नति होती है।
5
6
पौराणिक शास्त्रों के अनुसार हर माह आने वाली अमावस्या तिथि बहुत महत्वपूर्ण होती है। कृष्ण पक्ष में आनेवाली इस अमावस्या के संबंध में ऐसा माना जाता है कि इस दिन बुरे कर्म करने तथा नकारात्मक विचारों से दूर रहना चाहिए।
6
7
काशी पंचांग के अनुसार माघ माह के कृष्ण पक्ष में आने वाली अमावस्या को माघ अमावस्या या मौनी अमावस्या कहते हैं। इस दिन मनुष्य को मौन रहना चाहिए और गंगा, यमुना या अन्य पवित्र नदियों,
7
8
शनि ग्रह का नवग्रहों में महत्वपूर्ण स्थान है। ज्योतिष शास्त्र के फलित में शनि की महती भूमिका होती है। शनि को शास्त्रानुसार सूर्यपुत्र एवं दंडाधिकारी माना गया है।
8
8
9
बुध धनु राशि की यात्रा समाप्त करके 13 जनवरी 2020 को 11 बजकर 32 मिनट पर मकर राशि में प्रवेश कर गए हैं। जहां ये 31 जनवरी की प्रातः 04 बजकर 51 मिनट तक विचरण करेंगे।
9
10
अंक ज्योतिष (Numerology) की भविष्यवाणी मूलांक के आधार पर की जाती है। इस संख्या के आधार पर साल 2020 की विशेषताओं के बारे में जाना जा सकता है।
10
11
24 जनवरी 2020 से शनि धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश कर जाएंगे। इस वजह से धनु राशि पर शनि की साढ़ेसाती का अंतिम और तीसरा चरण शुरू हो जाएगा।
11
12
ज्योतिष एवं धर्म की दृष्टि से मुहूर्तों का विशेष महत्व होता है। आपके लिए यहां प्रस्तुत हैं सप्ताह के 7 दिन के विशिष्ट मुहूर्त
12
13
पूरे हफ्ते उन चीजों को करने की कोशिश करें जिससे आपको शांति और और सुकून महसूस होता हो। आर्थिक मामलों के लिए समय अच्छा है, कोई बड़ी डील हासिल करने में कामयाब होंगे।
13
14
तीक चिह्नों का ज्योतिष से भी सीधा संबंध है। जातक के जन्म के अवसर पर गोचर चंद्र जिस राशि पर होता है, जातक की वही जन्म राशि मानी जाती है।
14
15
बुधादित्य योग यदि लग्न में हो तो बालक का कद माता-पिता के बीच का होता है। यदि वृष, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, कुंभ, राशि लग्न में हो तो लंबा कद होता है। जातक का स्वभाव कठोर तथा वात-पित्त-कफ से पीड़ित होता है।
15
16
ज्योतिष एक वृहद शा स्त्र है। कोई भी पंडित पूर्ण ज्ञानी नहीं है फिर भी कुछ बातें शास्त्रों में ऐसी मिलती है जो हमें चौंका सकती है। हम लाए हैं सिर्फ 4 जरूरी बातें आपके लिए...
16
17
आज से 50-60 वर्ष पूर्व जब बाल विवाह का रिवाज था, तब विवाह समय बताने का एक बड़ा सरल तरीका गांव-शहर के पंडित काम में लाते थे। वे कुंडली की सप्तम भाव की राशि संख्या में 8 जोड़ देते और विवाह का वर्ष भी बता देते।
17
18
चंद्रमा सोमवार, सुख स्थान और माता का कारक होता है। यह मन की संकल्प-विकल्पमूलक कल्पनाशक्ति का परिचायक होता है। शारीरिक स्थित‍ि में यह जल ग्रह होने के कारण न्यूमोनिया तथा कफजनित रोग सर्दी-जुकाम आदि का सूचक रहता है।
18
19
हिन्दू कैलेंडर के अनुसार माघ कृष्ण एकादशी तिथि को षटतिला एकादशी व्रत किया जाता है। इस दिन श्रीहरि विष्णु और श्री कृष्ण की आराधना करने का विशेष महत्व है।
19
विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®