दत्त जयंती 2019 : क्या मिलता है लाभ दत्त भगवान की पूजा से, पढ़ें दत्तात्रेय बीज मंत्र


दत्तात्रेय उपनिषद के अनुसार, दत्त जयंती की पूर्व संध्या पर भगवान दत्ता के लिए व्रत और पूजा करने वाले भक्तों को उनका आशीर्वाद और कई तरह के मिलते हैं...

भक्तों को उनकी सभी इच्छित भौतिक सामग्री और धन की प्राप्ति होती है।

सर्वोच्च ज्ञान के साथ-साथ जीवन के उद्देश्य और लक्ष्यों को पूरा करने में मदद मिलती है।

चिंताओं के साथ-साथ अज्ञात भय से छुटकारा मिलता है।

पाप ग्रहजनित कष्टों का निवारण

सभी मानसिक कष्टों का अंत और पारिवारिक संकटों से भी छुटकारा मिलता है।

इससे जीवन में नेक रास्ते पाने में मदद मिलती है।
आत्मा को सभी कर्म बंधों से मुक्त करने में मदद मिलती है।

आध्यात्मिकता के प्रति झुकाव विकसित होता है।

दत्ता जयंती पूजा विधान और उपवास

भक्त सूर्योदय से पहले उठकर पवित्र स्नान करते हैं और फिर दत्ता जयंती का व्रत रखने का अनुष्ठान करते हैं।

पूजा के समय, भक्तों को मिठाई, अगरबत्ती, फूल और दीपक चढ़ाने चाहिए।

भक्तों को पवित्र मंत्रों और धार्मिक गीतों का पाठ करना चाहिए और जीवनमुक्त गीता और अवधूत गीता के श्लोकों को पढ़ना चाहिए।
पूजा के समय दत्ता भगवान की प्रतिमा पर हल्दी, सिंदूर और चंदन का तिलक लगाएं।

आत्मा और मन की शुद्धि व ज्ञान के लिए, भक्तों को ‘ओम श्री गुरुदेव दत्ता’ और ‘श्री गुरु दत्तात्रेय नमः’ जैसे मंत्रों का पाठ करना चाहिए...

दत्तात्रेय बीज मंत्र

दक्षिणामूर्ति बीजम च रामा बीकेन संयुक्तम् ।
द्रम इत्यक्षक्षाराम गनम बिंदूनाथाकलातमकम
दत्तास्यादि मंत्रस्य दत्रेया स्यादिमाश्रवह
तत्रैस्तृप्य सम्यक्त्वं बिन्दुनाद कलात्मिका
येतत बीजम् मयापा रोक्तम् ब्रह्म-विष्णु- शिव नामकाम
दत्तात्रेय का महामंत्र -
'दिगंबरा-दिगंबरा श्रीपाद वल्लभ दिगंबरा'
* तांत्रोक्त दत्तात्रेय मंत्र - 'ॐ द्रां दत्तात्रेयाय नम:'
* दत्त गायत्री मंत्र - 'ॐ दिगंबराय विद्महे योगीश्रारय् धीमही तन्नो दत: प्रचोदयात'

* बीज मंत्र : ॐ द्रां


विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®
 

और भी पढ़ें :