0

मौनी अमावस्या है खास, करेंगे ये काम तो बनेंगे मालामाल

मंगलवार,जनवरी 21, 2020
amavasya 2020
0
1
काशी पंचांग के अनुसार माघ माह के कृष्ण पक्ष में आने वाली अमावस्या को माघ अमावस्या या मौनी अमावस्या कहते हैं। इस दिन मनुष्य को मौन रहना चाहिए और गंगा, यमुना या अन्य पवित्र नदियों,
1
2
दक्षिण भारत में 'पोंगल' का हार प्रतिवर्ष मकर संक्रांति के आसपास मनाया जाता है। यह उत्सव लगभग 4 दिन तक चलता है।
2
3
चार दिनों तक चलने वाले पोंगल पर्व के चार पोंगल होते हैं। पूर्णतया प्रकृति को समर्पित यह त्योहार फसलों की कटाई के बाद आदि काल से मनाया जा रहा है। न
3
4
शुक्रवार, 10 जनवरी 2020 को छत्तीसगढ़ का लोकपर्व छेरछेरा धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है। यह पर्व पौष पूर्णिमा के दिन खास तौर पर मनाया जाता है।
4
4
5
प्रदोष अथवा त्रयोदशी का व्रत मनुष्य को संतोषी व सुखी बनाता है। वार के अनुसार जो प्रदोष व्रत किया जाता है, वैसे ही उसका फल प्राप्त होता है।
5
6
शास्त्रों में प्रदोष व्रत की बड़ी महिमा है। वर्ष 2020 में पहला प्रदोष व्रत बुधवार, 8 जनवरी को आ रहा है। इस दिन बुधवार को पड़ने के कारण इसे 'बुध प्रदोष व्रत' कहा जाता है।
6
7
हिन्दू पंचांग के चंद्रमास के अनुसार वर्ष का ग्यारहवां महीना है माघ। पौष के बाद माघ माह प्रारंभ होता है। पुराणों में माघ मास के महात्म्य का वर्णन मिलता है। इसका नाम माघ इसलिए रखा गया क्योंकि यह मघा नक्षत्रयुक्त पूर्णिमा से प्रारंभ होता है। चंद्रमास ...
7
8
जनवरी का महीना धार्मिक पूजा-पाठ का महीना है। इस माह कई बड़े-बड़े त्योहार आएंगे जिनमें पुत्रदा एकादशी, पौष पूर्णिमा व्रत, पोंगल, मकर संक्रांति आदि प्रमुख रहेंगे।
8
8
9
शुक्रवार, 3 जनवरी 2020 से मां शाकंभरी नवरात्रि का पर्व शुरू हो गया है। यह पर्व शुक्रवार, 10 जनवरी 2020 तक मनाया जाएगा। मान्यता के अनुसार पौष माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी से पूर्णिमा तक शाकंभरी नवरात्रि मानी जाती है।
9
10
हिन्दू पंचांग के अनुसार इस वर्ष पौष मास शुक्रवार, 13 दिसंबर 2019 से शुरू हो चुका है। पौष का महीना पंचांग के अनुसार दसवां महीना कहलाता है।
10
11
'वेबदुनिया' के पाठकों के लिए 'पाक्षिक-पंचांग' श्रंखला में प्रस्तुत है पौष शुक्ल पक्ष का पाक्षिक पंचांग-
11
12
मार्गशीर्ष मास की पूर्णिमा का दिन दत्त जयंती के रूप में मनाया जाता है। मान्यता अनुसार इस दिन भगवान दत्तात्रेय (दत्त) पृथ्वी लोक पर अवतरित हुए थे। इस वर्ष दत्त जयंती 11 दिसंबर को है।
12
13
दत्तात्रेय उपनिषद के अनुसार, दत्त जयंती की पूर्व संध्या पर भगवान दत्ता के लिए व्रत और पूजा करने वाले भक्तों को उनका आशीर्वाद और कई तरह के लाभ मिलते हैं...
13
14
माता अनुसूया ने कहा कि इन तीनों ने मेरा दूध पीया है, इसलिए इन्हें बालरुप में ही रहना ही होगा। यह सुनकर तीनों देवों ने अपने-अपने अंश को मिलाकर एक नया अंश पैदा किया।
14
15
भगवान दत्तात्रेय कहते थे कि जिस किसी से भी जितना सीखने को मिले, हमें अवश्य ही उन्हें सीखने का प्रयत्न अवश्य करना चाहिए। उनके 24 गुरुओं में कबूतर, पृथ्वी, सूर्य, पिंगला, वायु, मृग, समुद्र, पतंगा, हाथी, आकाश, जल, मधुमक्खी, मछली, बालक, कुरर पक्षी, ...
15
16
दिसंबर माह में मार्गशीर्ष पूर्णिमा व्रत, दत्त पूर्णिमा, पौष अमावस्या ये त्योहार प्रमुख रूप से रहेंगे। दिसंबर माह में कौन-सा व्रत कब है, जानें प्रमुख तारीखें।
16
17
एक समय की बात है कि एक साहूकार की बेटी पीपल की पूजा करती थी। उस पीपल में लक्ष्मीजी का वास था। लक्ष्मीजी ने साहूकार की बेटी से मित्रता कर ली।
17
18
'वेबदुनिया' के पाठकों के लिए 'पाक्षिक-पंचाग' श्रंखला में प्रस्तुत है पौष कृष्ण पक्ष का पाक्षिक पंचांग-
18
19
वर्षपर्यंत चलने वाले उत्सवों और धार्मिक अनुष्ठानों को हिन्दू धर्म का प्राण माना जाता है और हिन्दू समाज के लोग इन व्रत और त्योहारों को बेहद श्रद्धा और विश्वास के साथ मनाते हैं।
19
विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®