भगवान विष्णु के महान भक्त भूतनाथ अलवर

bhoothathalvar in tamil
Last Updated: शनिवार, 23 नवंबर 2019 (18:19 IST)
लेखक : आर. हरिशंकर
भूथाथ या भूतनाथ अलवर (4203 ईसा पूर्व) बारह अलवरों में से एक है। उनका जन्म में हुआ था। वे भगवान विष्णु के प्रति बहुत समर्पित थे, और हमेशा उनका नाम जपते रहते थे। बाहरी दुनिया से बिना किसी लगाव के केवल उनके बारे में ही सोचते रहते थे। इसलिए उन्हें भूतनाथ अलवर के रूप में जाना जाने लगा।

अध्यात्मिक लेखन : भूथथ अलवर का प्रसिद्ध लेखन 'इरंडम तिरुवंदाधी' के नाम से जाना जाता है।


महत्वपूर्ण : भूथथ अलवार भगवान विष्णु का भजन गाकर गुणगाण करके के लिए अच्छी तरह से जाने जाते हैं। उन्होंने स्वयं ही भजनों की रचना की और विष्णु भगवान के सामने गाया। वह सभी प्रकार की कलाओं में पारंगत थे, और गीत लिखने और संगीत की रचना करने में एक विशेषज्ञ थे।

उन्होंने प्रसन्नतापूर्वक अपने ज्ञान को दूसरों के साथ साझा किया। उनके पास दूसरों को भोजन दान करने और मेहमानों का स्वागत करने और उनके साथ भगवान विष्णु की महिमा का गायन करने के अच्छे गुण भी थे। वह एक विनम्र विद्वान थे, जो सभी को एक समान मानते और दूसरों के लिए एक उदाहरण के रूप में कार्य करते थे।


निष्कर्ष : भूतनाथ अलवर, पृथ्वी से प्रस्थान करने के बाद, भगवान विष्णु के दिव्य निवास वैकुंठ में गए और उन्हें हमेशा भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी की झलक मिलती रही है। वह सीधे उनके सामने भगवान की महिमा का जाप कर रहे हैं। वह भक्तों की प्रार्थना भी सुन रहे हैं। वह हमारे और भगवान के बीच एक दूत के रूप में कार्य करते हैं।

आइए हम उनसे अपनी समस्याओं और कठिनाइयों को साझा करें और उनके माध्यम से तरीके खोजें। चूंकि वह भगवान के साथ रह रहे हैं, तो वह निश्चित रूप से हमारी समस्याओं को दूर करने और भगवान के दिव्य निवास को प्राप्त करने के लिए मदद करेंगे। आइए हम उनसे प्रार्थना करें और धन्य हों। ॐ श्री भूथथ अलवर नम:। ॐ नमो नारायण।


और भी पढ़ें :