बरकत को यदि रखना है बरकरार तो भोजन करें इस प्रकार

food
रसोई घर में के उपाय के उपाय के लिए सबसे पहले आपको के पूर्व क्या करें, क्या ना करें और भोजन के बाद क्या करें यह जानना जरूरी है। के तौर पर नीचे कुछ नियम बताएं गए हैं।

भोजन से पूर्व क्या करें?
* 5 अंगों (2 हाथ, 2 पैर, मुख) को अच्छी तरह से धोकर ही भोजन करना चाहिए।
* भोजन करने से पूर्व देवताओं का आह्वान जरूर करें।
* भोजन सदैव पूर्व या उत्तर की ओर मुख करके करना चाहिए।
* भोजन की थाली को हमेशा पाट, चटाई, चौक या टेबल पर सम्मान के साथ रखें।
* भोजन के मेल जानकर ही भोजन करें।

भोजन करते समय क्या करें?
* भोजन करते वक्त वार्तालाप या क्रोध न करें।
* भोजन करते वक्त अजीब-सी आवाजें न निकालें।
* परिवार के सदस्यों के साथ बैठकर ही भोजन करें।
* जूते पहने हुए कभी भोजन नहीं करना चाहिए।
* जूठे हाथों से या पैरों से या अग्नि का स्पर्श न करें।
* संभव हो तो रसोईघर में ही बैठकर भोजन करें इससे राहु शांत होता है।
* खाने की थाली को कभी भी एक हाथ से न पकड़ें। ऐसा करने से खाना प्रेत योनि में चला जाता है।

भोजन करने के बाद क्या करें?
* भोजन करने के बाद थाली में हाथ न धोएं।
* थाली में कभी जूठन न छोड़ें।
* रात्रि में भोजन के जूठे बर्तन घर में न रखें।
* भोजन की थाली को कभी किचन स्टैंड, पलंग या टेबल के नीचे न रखें, ऊपर भी न रखें।
* रात में चावल, दही और सत्तू का सेवन करने से लक्ष्मी का निरादर होता है।


विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®
 

और भी पढ़ें :